यह भी पढ़ें:

You'll Also Like

My Other Blogs

Saturday, March 27, 2010

एकतरफा बोल रही हैं अंजू गुप्ता : कलराज मिश्रा

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं बाबरी विध्वंश मामले में आरोपी कलराज मिश्रा ने आईपीएस अधिकारी अंजू गुप्ता के सीबीआई अदालत में शुक्रवार को दिऐ बयान को एकतरफा करार दिया है। उन्होंने कहा कि अंजू अपने बयान में पूर्वाग्रहों से ग्रस्त लगती हैं। उन्हें मामले का दूसरा पक्ष भी रखना चाहिऐ थे।
  • आडवाणी, जोशी ने मुंह तक नहीं खोला था, शेशाद्रि विभिन्न भाषाओं में लोगों को ढांचा तोड़ने से मना कर रहे थे 

शनिवार को निजी प्रवास पर नैनीताल पहुंचे भाजपा के वरिष्ठ नेता ने बातचीत मैं यह बात कही। उन्होंने इसे सही करार दिया कि बावरी विध्वंश की घटना के दौरान अंजू वहां एएसपी के रूप में मौजूद थीं, और उनकी (कलराज की) अंजू से काफी बात भी हुई थी। उन्होंने बताया कि घटना के दौरान देश की विभिन्न भाषाओं के ज्ञाता आरएसएस नेता स्वर्गीय शेशाद्रिचारी भीड़ को लगातार हिन्दी, तमिल, तेलगू व पूर्वोत्तर की विभिन्न भाषाओं में चीख चीखकर `संघ की मानो´ व `अनुशासन मानो´ कह समझा रहे थे। कलराज ने दावा किया कि इस दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी एवं मुरली मनोहर जोशी कार सेवकों को भड़काने जैसा एक शब्द भी नहीं बोले थे। इस दौरान जब ढांचा तोड़ा जा रहा था, कई लोग बाबरी ध्वंस करने वालों को पकड़ने के लिए भी दौड़े, और कई को मारा भी गया। मिश्रा ने कहा कि वह घटना भीड़ द्वारा अनियन्त्राण की स्थिति में की गई घटना थी, ऐसे में नेतृत्व पर लांछन लगाना गलत है। उन्होंने माना कि बाबरी ध्वंस के बाद कुछ लोगों ने खुशी जरूर जताई थी। उनका कहना था कि अंजू यदि दूसरी ओर की बातें भी रखती तो अच्छा होता। एक अन्य सवाल के उत्तर में श्री मिश्रा ने राम मन्दिर निर्माण को भाजपा की वचनबद्धता बताया। साथ ही साफ किया कि भाजपा के पूर्ण बहुमत बिना यह सम्भव नहीं लगता। उन्होंने भाजपानीत एनडीए के छह वर्ष के शासनकाल में राम मन्दिर न बनाने को विफलता मानने से इंकार किया। कहा यह 1857 से चला आ रहा विवाद है। उन्होंने खुलाशा किया कि 1857 में फैजाबाद के एक हिन्दू व एक मुस्लिम नेता ने विवादित स्थल पर मन्दिर का निर्माण तय कर लिया था, किन्तु अंग्रेजों ने दोनो नेताओं को फांसी पर चढ़ा दिया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को भी राममन्दिर के कपाट खोलने के लिए श्रेय दिया। कहा कि कांग्रेस पार्टी सहित सभी चाहते हैं कि राम मन्दिर बने, परन्तु दूसरे को राजनीतिक श्रेय न मिल जाऐ इसलिए विरोध करते हैं। अमिताभ बच्चन को गुजरात का ब्राण्ड अंबेसडर बनाऐ जाने के बाद कांग्रेस द्वारा उनका विरोध किऐ जाने को उन्होंने कांग्रेस की संकुचित सोच का नमूना बताया। कहा कि पूर्व पीएम राजीव गांधी, पीएम डा. मनमोहन सिंह व पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद से विकास के प्रतिमान रचने के लिए प्रशंशित गुजरात प्रदेश से किसी बढ़े कलाकार के जुड़ने की प्रशंशा होनी चाहिऐ। इसे कलाकार का सत्तारूढ़ दल से जुड़ना नहीं माना जाना चाहिऐ।

Friday, March 19, 2010

मेरी फोटो पर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिला है !


नवीन जोशी की तस्वीर को अंतरराष्ट्रीय एवार्ड 
राष्ट्रीय सहारा, नैनीताल के ब्यूरो प्रभारी नवीन जोशी द्वारा ली गई एक तस्वीर को अंतरराष्ट्रीय फोटो प्रतियोगिता 'जियोटैग्ड फोटो कांटेस्ट' में आनरेबल मेंशन्स कैटगरी में सेलेक्ट किया गया है. इस फोटो प्रतियोगिता का आयोजन पेनोरमियो वेबसाइट की तरफ से किया जाता है. नवीन जोशी की तस्वीर हिमालय की पंचाचूली चोटी की है. इस चोटी पर सुबह के समय सूर्य की पहली किरण पड़ते ही यह तस्वीर ली गई. इसी कारण फोटो में हिमालय सोने की तरह दमकता नजर आ रहा है. पेनोरियो वेबसाइट गूगल अर्थ पर दुनिया के विभिन्न स्थानों की फोटो उपलब्ध कराती है. इस वेबसाइट पर नवीन जोशी की 200 से अधिक तस्वीरें एक वर्ष से हैं.  यह वेबसाइट दुनिया भर के अपने लाखों फोटोग्राफरों से हर माह प्रतियोगिता के लिए अपनी अधिकतम 5 फोटो नामिनेट करने को कहती है. फिर पूरे माह इन फोटो पर दुनिया से वोटिंग होती है. कोई भी व्यक्ति वेबसाइट पर लाग-इन कर वोटिंग कर सकता है. इस वेबसाइट पर चूंकि भारत के कम ही लोग जुड़े हैं, इसलिए किसी भारतीय का पुरस्कार जीतना काफी कठिन होता है. नवीन जोशी से पहले संभवतः उन्नीपिल्लई नाम के एक फोटोग्राफर के रूस में खींचे गए चित्र को यह पुरस्कार मिला था. नवीन जोशी नैनीताल में मार्च 2008 से ब्यूरो प्रभारी के रूप में कार्यरत हैं. इससे पूर्व वे एक दशक तक दैनिक जागरण, उत्तर उजाला व बद्री विशाल आदि समाचार पत्रों में जुड़े रहे. नवीन फोटोग्राफी के शौकीन हैं.                                                           


नवीन जोशी की पुरस्कृत तस्वीर :  Himalaya glittering like Gold early in the morning.(January 2010 - Geotagged Photo Contest Honorable mentions)
नवीन जोशी की पुरस्कृत तस्वीर : Himalaya glittering like Gold early in the morning.(January 2010 - Geotagged Photo Contest Honorable mentions)


नवीन जोशी की पुरस्कृत तस्वीर को हम यहां तो पब्लिश कर ही चुके हैं, उसे अगर आप पेनोरमियो वेबसाइट पर देखना चाहते हैं तो क्लिक करें...
पेनोरमियो वेबसाइट की ओर से किन तस्वीरों को प्रथम व द्वितीय पुरस्कार के लायक माना गया है, उसे देखने के लिए क्लिक करें....
Comments (17)
written by kamta, March 22, 2010...
Congratulations friend.
written by sumant, March 23, 2010
बहुत खूब नवीन। शायद यह तस्वीर आपने मुनस्यारी से ली है। पीडब्लूडी डाकबंगले के आसपास से। मेरा बचपन गुजरा है मुनस्यारी में। आपकी तस्वीर से बचपन की कुछ यादें ताजा हो उठी हैं। खासकर कर स्वर्गवासी हुए पिता याद आए। कभी घर के सामने बैठ हम यूं ही पंचाचूली को ताका करते थे।
सादर
written by dharmendra, March 23, 2010...
congratulations !
dharmendra
sub editor
mahanagar kahaniyan
written by S.S.Negi, RAshtriya Sahara, Kumaun, March 23, 2010
Joshi ji Cong. for this, my best wishes with u.
written by chandan Rastogi, March 23, 2010
well done joshi ji...............
congratulations !!!!!!!!!!!
chnadan
rashtriya sahara
dehradun
written by atul, March 23, 2010...
abdffgfgfgfg
    written by pankaj shrimali, March 23, 2010...
congrechlestion naween jee
written by pankaj shrimali, March 23, 2010...
weldone joshi ji
written by dinesh mansera, March 23, 2010...
naveen bhai badhai..aap khoob aage barho ye hi shubhkamnayen
written by नवीन जोशी, March 23, 2010
धन्यवाद कामता जी, सुमंत जी, धर्मेंद्र जी, नेगी जी, चन्दन रस्तोगी जी, अतुल जी, पंकज श्रीमाली जी और दिनेश मनसेरा भाई, 
मैं आभार ज्ञापित करने मैं स्वयं को शब्द विहीन पा रहा हूँ. बहुत-बहुत धन्यवाद!! आप सभी की शुभकामनाओं का प्रतिफल ही यह पुरष्कार है. और इस पुरष्कार से अधिक खुशी मुझे आपके सुन्दर शब्द दे रहे हैं.
written by deepak Agrawal, Hindustan, Agra, March 23, 2010...
Congratulations, Joshi ji ......weldone
written by awanish yadav, kanpur, March 24, 2010...
acchi photo ke liye badhai ho Naveen ji.
Awanish Yadav, HT Media, Bilhaur, Kanpur
    written by unnippillai, March 24, 2010...
Congratulations, Joshiji, for your prize and thank you for your complements to me in the message or comments on my photo page in Panoramio. Wish you for more prizes in the contest...........
    written by unnippillai, March 24, 2010
    Congratulations,Joshiji, for your Prize in the Competition and Thank you very much for the complements given to me in your message in the comments in my Photopage in Panoramio. Wish you more Prizes in future contests.....
    written by Reetesh Sah, March 24, 2010 ...
Congratulations, Navin Bhai,
You had real potential of doing this……..kudos... to your multi-facilitate personality. .
Keep it up……
Reetesh
written by Reetesh Sah, March 24, 2010...
Congratulation Navin Bhai,
You had real potential of doing this……..kudos to your multi-facilitate personality .
Keep it up……
Reetesh
written by ajeet singh gaur, March 26, 2010
congratulations!

    इसे इस लिंक पर ओरिजिनली देखा जा  सकता है.
    यहाँ भी देखें :
http://pahar1.blogspot.com/2010/03/blog-post_7598.html
एक और सम्मान उत्तराखंड की राज्यपाल से भी मिला, पूरी खबर यहाँ देखें: http://bhadas4media.com/award/5247-navin-joshi.html

Thursday, March 18, 2010

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी हो गए कांग्रेसी

 जी हां! राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी कांग्रेसी हो गए  हैं. नैनीताल जनपद के कांग्रेसियों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हाथों में चरखा युक्त तिरंगे की बजाय अपने चुनाव चिन्ह पंजा युक्त तिरंगा थमा उन्हें कांग्रेसी बना ने की कोशिश की है। विश्वास न हो तो यह चित्र देखिये, इसे देखकर तो ऐसा ही लगता है, ख़ास बात यह है कि राज्य की भाजपा सरकार का भी इसमें कांग्रेस को मूक समर्थन लग रहा है.  साफ़ कर दें कि  बीती छह मार्च को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष यशपाल आर्य की उपस्थिति में मुख्यालय में आयोजित प्रदेशव्यापी धरना प्रदर्शन के दौरान  कांग्रेसियों ने नगर को अपने झंडों से पात दिया था। इसी दौरान गाँधी जी के हाथ की लाठी से तिरंगा बाँध दिया गया.  गाँधी जी के हाथ में राष्ट्रध्वज तिरंगा बाँधा होता तो ठीक भी था, किन्तु उनके हाथ में पार्टी विशेष का झंडा पकडाना और क्या कहा जाएगा ?  खास बात यह भी है कि बीते 12 दिनों से नगर के मुख्य चौराहे गांधी चौक पर गांधी जी की लाठी पर लटका यह झण्डा खुद तो गिरने लगा है, किन्तु शा सन प्रशासन के बड़े जिला व मण्डल स्तरीय अधिकारियों की नज़रें या तो राष्ट्रपिता की ओर गई ही नहीं हैं, अथवा वह राष्ट्रपिता के इस अपमान के प्रति बिल्कुल भी सजग नहीं हैं। 

Tuesday, March 2, 2010

`जंगल की ज्वाला´ संग मुस्काया पहाड़..


 `...पारा भीड़ा बुरूंशी फूली छौ, मैं ज कूंछू मेरी हीरू ऐरै छौ ,´ देवभूमि उत्तराखण्ड के पहाड़ी जंगलों में पशु चारण करते ग्वाल बालों की जुबान पर यह गीत इन दिनों खासा चढ़ा हुआ है। कारण उनका प्यारा लाल , सुर्ख बुरांश पूरी तरह खिल आया है। उत्तराखण्ड के राज्य वृक्ष पर लकदक खिला यह फूल इस कदर मुस्कुराया है, कि इसके खिलने से महके ऋतुराज बसन्त के साथ मुस्काते पहाड़ों की खूबसूरती में चार चाँद लग गऐ हैं। कोशिश की जाऐ तो फूलों के मौसम की यह खूबसूरती प्रदेश के पर्यटन में भी  चार चाँद लगाते हुए काफी लाभकर हो सकती है। 


बुरांश का फूल जितना सुन्दर है, उतना ही अधिक लाभकारी भी। वनस्पति विज्ञान की भाशा में रोडोडिण्ड्रोन कहे जाने वाले बुरांश का पहाड़ से गहरा आत्मीय लगाव है। शायद इसीलिए इसके पेड़ को देवभूमि उत्तराखंड में राज्य वृक्ष का दर्जा मिला हुआ है। 

  • पूरी तरह लाल सुर्ख हो गऐ पहाड़ के कई जंगल 
  • पर्यटन के लिहाज से हो सकता है लाभकारी
देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू भी इसके प्रशंशकों में थे। उन्होंने अपने संस्मरणों में लिखा कि पहाड़ पर बुरांश के रंजित लाल स्थल दूर ही से दिख रहे थे। महाकवि अज्ञेय ने भी अपनी कविताओं में इसका कई बार जिक्र किया। 
हिन्दी के सुकुमार छायावादी कवि सुमित्रानन्दन पन्त को तो इस पुष्प ने अपनी लोकभाषा  कुमाउनीं में लिखने को मजबूर कर दिया था। उन्होंने इसे `जंगल की ज्वाला´ नाम दिया था। वहीं कवि श्रीकान्त वर्मा भी इसका जिक्र करने से स्वयं को नहीं रोक पाये. उन्होंने लिखा, `दुपहर भर उड़ती रही सड़क पर मुरम की धूल, शाम को उभरा मैं, तुमने मुझे पुकारा बुरूंश का फूल´। राज्य के कुमाउंनी गढ़वाली कवियों ने इसे कभी प्रेमिका के गालों तो कभी उसके रूप सौन्दर्य के लिए खूब इस्तेमाल किया। इधर जलवायु परिवर्तन का असर इस पेड़ पर जहां समय पूर्व खिलने के रूप में सर्वाधिक दिखाई दे रहा है। इस प्रकार जलवायु परिवर्तनों पर  शोध करने के लिए भी इस वृक्ष की उपयोगिता बढ़ जाती है। दूसरी ओर पशुओं के लिए उत्तम चारा व जलौनी लकड़ी होने के कारण इसके जंगलों के आसपास के ग्रामीण भी इसे खासा नुकसान पहुंचा रहे हैं, जिसे रोकने की जरूरत है। फलस्वरूप इसके जंगल सिमटते जा रहे हैं। पहाड़ों पर 1200 से 4800 मीटर पर उगने वाले इस सदापर्णी वृक्ष के रक्तिम सुर्ख फूल में  शहद का भण्डार होता है। ऊंचाई बढ़ने के साथ इसके रंग में परिवर्तन होता जाता है और यह लाल रंग खोता हुआ गुलाबी, सफेद व बैगनी रंगों में भी पाया जाता है। एक ओर जहां यह चीड़ मिश्रित वनों में भी पाया जाता है, वहीं हिमालय के बुग्यालों के करीब होने वाली सीमित वृक्ष प्रजातियों में भी यह कम लंबाई के साथ मिल जाता है। इससे जूस, स्कवैश, जैम आदि उत्पाद बनाऐ जाते हैं, जो रक्तशोधक एवं हीमोग्लोबिन की पूर्तिकारक के रूप में अचूक औषधि माने जाते हैं। बुरांश का एक अन्य तरह से भी बड़ा व्यवसायिक इस्तेमाल हो सकता है। पहाड़ पर जिस मौसम में यह खिलता है, वह प्रदेश के पर्यटन के लिहाज से `ऑफ पीक´ यानी सर्वाधिक बुरा समय कहा जाता है, क्योंकि इन दिनों बर्फवारी की आस सिमट जाती है, और मैदानों में खास गर्मी नहीं बढ़ी होती। ऐसे में बुरांश के खिलने से पहाड़ में खिले फूलों का मौसम जहाँ सैलानियों को बड़ी संख्या में आकर्षित कर प्रदेश को बड़ी राजस्व आय दे सकता है, वहीँ सैलानियों के लिए प्रकृति के स्वर्ग में बड़ा आकर्षण भी साबित हो सकता है।
यह भी पढ़ें : इस साल समय पर खिला राज्य वृक्ष बुरांश, क्या ख़त्म हुआ 'ग्लोबलवार्मिंग' का असर ? 
There was an error in this gadget